राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्ट–अप योजना हिमाचल प्रदेश 2023– 24: 50% तक कम मिल रहा अनुदान (Rajiv Gandhi Swarojgar Start–UP Yojana HP in Hindi)

राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्टअप योजना हिमाचल प्रदेश 2023–24, ऑनलाइन आवेदन, रजिस्ट्रेशन फॉर्म, लाभार्थी, लिस्ट, पात्रता, दस्तावेज, अधिकारी वेबसाइट, हेल्पलाइन नंबर, ताजा खबर

हिमाचल प्रदेश में बढ़ती हुई बेरोजगारी से युवाओं के साथ सरकार भी चिंता में आ चुकी है, क्योंकि लगातार हिमाचल प्रदेश की युवा राज्य में रोजगार पैदा करने के लिए कर रहे हैं। ऐसे में सरकार ने काफी सोच विचारकर ही रोजगार प्रदान करने के लिए एक महत्वपूर्ण योजना को शुरू किया हुआ है इस योजना का नाम भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर राजीव गांधी स्वरोजगार योजना रखा गया है। योजना के माध्यम से सरकार रोजगार तो देगी ही इसके अलावा हिमाचल प्रदेश मेंअन्य कई महत्वपूर्ण काम भी करेगी, जिसमें सभी बेरोजगार युवाओं को शामिल किया जायेगा।

राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्ट–अप योजना 2023

हिमाचल प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री सुरेंद्र सिंह के द्वारा साल 2023 में 17 मई को आयोजित कैबिनेट की बैठक में राजीव गांधी स्वरोजगार योजना को शुरू करने का मंजूरी मिला था। इस योजना के द्वारा सरकार हिमाचल प्रदेश राज्य को साल 2026 तक हरित प्रदेश बनाने और इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए आदर्श राज्य बनाने के लिए काम करेगी। इसके अलावा इस योजना के द्वारा हिमाचल प्रदेश में रोजगार पैदा करने के लिए सरकार प्रयास कर रही है।

राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्ट–अप योजना सब्सिडी

सरकार ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए सरकार के द्वारा मशीनरी पर 25% से लेकर 35% की सब्सिडी प्रदान की जाएगी ताकि युवा रोजगार करके अपने पैरों पर खड़े हो सके और जिससे हिमाचल प्रदेश में बेरोजगारी में कमी आए ।सरकार ने युवाओ से भी आग्रह किया है कि यदि वह वास्तव में बेरोजगार है तो उन्हें जल्द से जल्द ही सूचना के लिए अपना पंजीकरण करना चाहिए और योजना के लाभ लेना चाहिए ताकि सरकार ने जिस मिशन के साथ योजना को लांच किया हुआ है वह पूरा हो सके और बेरोजगारी को कम करने के लिए निश्चित लक्ष्य को उसके समय सीमा के अंदर पूरा किया जाए।

हिमाचल प्रदेश राजीव गांधी स्वरोजगार योजना का उद्देश्य

इस योजना के अंतर्गत सरकार कई उद्देश्य लेकर के चल रही है जैसे कि सरकारी योजना के द्वारा हिमाचल प्रदेश को हरित राज्य की श्रेणी में पहले स्थान पर लाने का प्रयास कर रही है। इसके अलावा सरकार हिमाचल प्रदेश में इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियों के ज्यादा इस्तेमाल को भी प्रोत्साहन दे रही है,  साथ ही सरकार हिमाचल प्रदेश के बेरोजगार युवाओ को रोजगार प्रदान करने के लिए भी इस योजना के द्वारा प्रयास कर रही है। कुल मिलाकर सरकार की यह मनसा है कि किसी भी तरीके से बेरोजगारी को हटाया जाए और राज्य को निश्चित समय के राज्य को अन्य राज्यों के बराबरी में लाया जाय।

हिमांचल प्रदेश राजीव गांधी स्वरोजगार योजना लाभ एवं विशेषताएं

  • योजना के अंतर्गत मशीनरी की खरीदारी पर सरकार जनरल कैटेगरी को 25%, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति को 30%, महिला और दिव्यांगों को 35% सब्सिडी देगी।
  • योजना के अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियों की खरीदारी पर सरकार 50% सब्सिडी प्रदान करेगी, वहीं सरकार सोलर एनर्जी परियोजना के लिए ढाई सौ किलो वाट से लेकर 2 मेगावाट तक 40% की सब्सिडी देगी।
  • इस योजना के अंतर्गत सरकार युवाओं को इलेक्ट्रॉनिक टैक्सी की खरीदारी के लिए प्रोत्साहन दे रही है।
  • योजना के द्वारा सरकार का प्रयास है कि वह साल 2026 तक हिमाचल प्रदेश को भारत में आदित्य एनर्जी राज्य बनाने और इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियों के सबसे अधिक इस्तेमाल वाले राज्य के तौर पर डेवलप करना चाहती हैं।
  • सरकार ने इस योजना के सफल संचालन के लिए 100 करोड़ अर्थात 1 अरब रूपये का बजट तय किया है।
  • यदि डेंटल क्लीनिक खोला जाता है तो योजना के अंतर्गत सरकार के द्वारा 60 लाख तक की मशीन पर 25 परसेंट से लेकर 35 परसेंट की सब्सिडी दी जाती है।
  • योजना का लाभ हासिल करने वाले युवा अपने पैरों को मजबूत बना सकेंगे और आत्मनिर्भर हो सकेंगे।
  • हिमाचल प्रदेश के बेरोजगार युवाओ को इस योजना से काफी ज्यादा फायदा मिलने वाला है और उनकी बेरोजगारी दूर होने वाली है।

हिमाचल प्रदेश राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्टअप योजना पात्रता

  • यदि आवेदक हिमाचल प्रदेश का मूल निवासी है तो वह इस योजना के लिए पत्र है।
  • आवेदक की उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए।
  • आवेदक का बैंक अकाउंट आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।
  • हिमांचल प्रदेश के बेरोजगार युवा इस योजना के लिए पात्र हैं।
  • लड़के और लड़की या महिला तथा पुरुष दोनों ही इस योजना के लिए पात्रता रखते हैं।
  • आवेदक का कम से कम दसवीं क्लास पास होना जरूरी है।

हिमाचल प्रदेश राजीव गांधी स्टार्ट–अप योजना दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • मशीनरी का बिल
  • दिव्यांग होने का प्रमाण (दिव्यांग की स्थिति में)
  • पंजीकृत मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्ट–अप योजना आधिकारिक वेबसाइट

फिलहाल वर्तमान में राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्टअप योजना के आधिकारिक वेबसाइट अभी जारी नहीं हुई है, वेबसाइट जारी होते ही इस आर्टिकल में सूचना दे दी जाएगी।

राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्टअप योजना ऑनलाइन आवेदन

हिमाचल प्रदेश के जो भी युवा राजीव गांधी स्वरोजगार योजना का लाभ उठाना चाहते हैं उन्हें सूचित करना चाहते हैं कि अभी आपको थोड़ा सा इंतजार करने की आवश्यकता है क्योंकि योजना को शुरू हुए अभी ज्यादा समय नहीं हुआ ऐसे में योजना में कैसे आवेदन किया जाएगा और कैसे योजना का लाभ मिल सकेगा इसके बारे में कोई भी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध नहीं है। जैसे ही सरकार योजना में आवेदन के लिए किसी भी प्रकार की आधिकारीक वेबसाइट जारी करती है वैसे ही हम आधिकारीक वेबसाइट और आवेदन की प्रक्रिया की जानकारी इसी आर्टिकल में आपको अपडेट कर देंगे।

होम पेजयहा क्लिक करें

राजीव गांधी स्वरोजगार योजना हेल्पलाइन नंबर

सरकार ने अभी योजना के लिए कोई भी हेल्पलाइन नंबर को जारी नहीं किया हुआ है। यदि हिमाचल प्रदेश सरकार राजीव गांधी स्वरोजगार योजना का हेल्पलाइन नंबर या टोल फ्री नंबर जारी करती है तो इस आर्टिकल में आपको नंबर की जानकारी दे दी जाएगी ताकि योजना की जानकारी घर बैठे मिल सके।

FAQ

Q : राजीव गांधी स्वरोजगार योजना के तहत कितनी सब्सिडी मिलेगी ?

Ans : अलग-अलग श्रेणी वाले लोगों को अलग-अलग परसेंटेज में सब्सिडी दी जाएगी।

Q : राजीव गांधी स्वरोजगार योजना के अंतर्गत क्या होगा?

Ans : बेरोजगार युवाओं को रोजगार से जोड़ा जाएगा।

Q : राजीव गांधी स्वरोजगार योजना के लिए कौन से दस्तावेज लगेंगे?

Ans : दस्तावेज की जानकारी आर्टिकल में है।

Q : राजीव गांधी स्वरोजगार योजना के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

Ans : कम से कम 18 साल।

Q : राजीव गांधी स्वरोजगार योजना का फायदा लेने के लिए कितना पढ़ा लिखा होना चाहिए?

Ans : कम से कम दसवीं पास।

Leave a comment